भोपाल मध्य प्रदेश मुरैना

धान और बाजरा उत्पादक किसानों की लूट और खाद का संकट खत्म करो माकपा ने लिखा मुख्यमंत्री को पत्र

भीमसेन सिंह तोमर। विशेष संवाददाता। ‌
भोपाल। सरकार के दावों के बावजूद मंडियों में किसानों की लूट हो रही है। मोटे धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1940 रुपए प्रति क्विंटल होने के बावजूद पूरे प्रदेश में किसानों का धान 1400 से लेकर 1700 रुपए की दर से खरीदा जा रहा है। जाहिर है कि एक ही क्विंटल पर 240 से लेकर 540 रुपए तक की लूट हो रही है। उधर बासमती और अन्य अच्छी गुणवत्ता वाले धान की कीमत भी 3300 रुपए से गिरकर 2200 से 2500 रुपए के बीच आ गई है।

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव जसविंदर सिंह ने उक्त लूट को रोकने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिख कर कहा है कि इस लूट का शिकार बाजरा उत्पादक किसान भी हो रहे हैं। 20 नवंबर को लिखे अपने पत्र का हवाला देते हुए माकपा नेता ने कहा है कि बाजरे का न्यूनतम समर्थन मूल्य 2250 रुपए होने के बावजूद मंडियों में किसानों को 1400 से 1600 रुपए के बीच अपना बाजरा बेचने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।

माकपा नेता ने कहा है कि इस लूट की वजह सरकारी खरीद एजेंसियों की बिचौलियों से सांठगांठ है। धान के मामले में चिंता की बात तो यह है कि प्रदेश के 22 जिलों में अभी तक सरकारी खरीद शुरू ही नहीं हुई है।

जसविंदर सिंह ने कहा है कि जब मंडियों में किसानों की लूट हो रही है, तब खाद के संकट ने किसानों की रातों की नींद हराम कर दी है। किसान रात रात भर जाग कर लाईनों में लगने के बाद भी खाद प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं। इस संकट के कारण खाद की कालाबाजारी और नकली खाद का संकट बढ़ रहा है। माकपा नेता ने पत्र में कहा है कि इस संकट का कारण सरकार द्वारा 50 फीसद खाद को खुले बाजार में बेचने का निर्णय है। इसलिए प्राइवेट खाद व्यापारी किल्लत पैदा कर कालाबाजारी कर रहे हैं।

माकपा ने मुख्यमंत्री से हस्तक्षेप करने और समय पर किसानों की लूट को बंद करने की मांग की है।

जसविंदर सिंह
9425009909

RB NEWS INDIA
For More Information You Can Contact us Call - +919425715025 For News And Advertising - +919926261372
https://rbnewsindiagroup.com