अम्बाह मुरैना

पशुपालन ही आजीविका का एक मात्र साधन था,अब कैसे चलेगी आजीविका-लोचन सिंह

थरा, अम्बाह।भीमसेन सिंह तोमर। अंचल में कुछ महीने फैली पशुओं की महामारी वायरस अपना पैर लगता है फिर से पुनरावृत्ति में लग गया है। हम आपको बता दें कि कुछ माह पूर्व अंचल में फैली पशुओं की महामारी ने क्षेत्र में किसानों का लगभग करोड़ों रुपए की पशुधन को हानि पहुंचाने का कार्य किया था। इस्को लेकर विधानसभा में भी भाजपा विधायक श्री सूबेदार सिंह रजौधा ने ध्यान आर्कषण के माध्यम से पशुपालकों के हितार्थ मुद्दे को उठाया था। ऐसा ही नया मामला ग्राम पंचायत थरा के मजरा जूझकी में सामने आया। यहां लोचन सिंह तोमर के यहां पर दो दिनों में पांच भैंसों की मौत से क्षेत्र में फिर से किसान बंधुओं में दहशत का माहौल बन गया है। और वही पीड़ित किसान लोचन सिंह तोमर ने बताया कि हमारे पास आजीविका चलाने के लिए केवल पशु पालन ही एक मात्र साधन था। उसमें भी मेरी पांच भैंसों की एक साथ मौतों से मन बहुत ही आहत हुआ है। अब अपने परिवार का भरण-पोषण कैसे होगा। बस यही चिंता खाए जा रही है। । एक मामला आपके ग्राम पंचायत का आया है मेरे संज्ञान में, वहां हमारे अन्य वरिष्ठ पशु चिकित्सा अधिकारी भी जांच परीक्षण के लिए गए थे। उसके कुछ सेंपल बरेली और जबलपुर में भी भेज दिया गया है। कुछ महीनों पहले जो वाइरस वाली बीमारी जो अंचल में फैली हुई थी। जांच में प्रारंभिक तौर पर ऐसा प्रतीत हो रहा है। बाकी सहयोग के लिए पशुपालन विभाग से हमारे पास सिर्फ के सी सी के अलावा अन्य कोई प्रावधान नहीं है। नहीं तो जरूर सहयोग किया जाता। पी, एस भदौरिया, चिकित्सा अधिकारी अम्बाह। । हम इनके मुआवजा के सभी आवश्यक कार्यवाही, प्रतिवेदन के माध्यम से ऊपर भेजने का कार्य अवश्य करेंगे। बाकी सहयोग की कोई अन्य प्रक्रिया तो इस विषय पर है नहीं। महावीर करौंदिया पटवारी ग्राम पंचायत थरा। ।

RB NEWS INDIA
For More Information You Can Contact us Call - +919425715025 For News And Advertising - +919926261372
https://rbnewsindiagroup.com