आस्था धार्मिक

हनुमान जयंती पर विशेष – क्या हनुमान जी आज भी जीवित हैं ? उनके दर्शन हो सकते हैं क्या ?

हनुमानजी सप्तचिरंजीवों में से एक हैं । अर्थात सदैव जीवित रहने वाले । हनुमानजी ने त्रेतायुग में श्रीरामजी की अवतार समाप्ति के उपरांत भी द्वापार युग में महाभारत के युद्ध में सहभाग लिया था । उसके उपरांत कलियुग में संत तुलसीदासजी तथा समर्थ रामदास जी, इन संतों ने हनुमानजी के दर्शन किए हैं, ऐसा उल्लेख मिलता है । श्रीमद्भागवत में उल्लेख है कि कलियुग में हनुमानजी का निवास गंधमादन पर्वत पर रहता है । ऐसे कहा जाता है कि यह पर्वत हिमालय की श्रृंखलाओं में तिब्बत के आगे है । हनुमान जी के दर्शन के संदर्भ में पुराणों में लिखा है कि –

यत्र-यत्र रघुनाथ कीर्तन तत्र कृत मस्तकान्जलि।
वाष्प वारि परिपूर्ण लोचनं मारुतिं नमत राक्षसान्तक॥’’

अर्थात कलियुग में जहां-जहां भगवान श्रीराम की कथा-कीर्तन इत्यादि होते हैं, वहां हनुमानजी गुप्त रूप से विराजमान रहते हैं । यदि मनुष्य पूर्ण श्रद्घा से इनका आश्रय ले, तो फिर तुलसीदासजी की भांति उसे भी हनुमान और राम-दर्शन होने में देर नहीं लगती ।

कार्य  वैशिष्ट्य

सर्वशक्तिमान :  हनुमानजी सर्वशक्तिमान देवता हैं । जन्म लेते ही हनुमानजी ने सूर्यको निगलनेके लिए उडान भरी । इससे यह स्पष्ट होता है कि, वायुपुत्र अर्थात वायुतत्त्व से उत्पन्न हनुमानजी,  सूर्य पर अर्थात तेज तत्त्व पर विजय प्राप्त करने में सक्षम थे । पृथ्वी, आप, तेज, वायु एवं आकाश तत्त्वों में से तेजतत्त्व की तुलना में वायुतत्त्व अधिक सूक्ष्म है अर्थात अधिक शक्तिमान है । सर्व देवताओं में केवल हनुमानजी को ही अनिष्ट शक्तियां कष्ट नहीं दे सकतीं । लंका में लाखों राक्षस थे, तब भी वे हनुमानजी का कुछ नहीं बिगाड पाएं । इससे हम हनुमानजी की शक्ति का अनुमान लगा सकते हैं ।

जितेन्द्रिय : सीताजी को ढूंढने जब हनुमानजी रावण के अंतःपुर में गए, तो उस समय की उनकी मनःस्थिति उनके उच्च चरित्र का सूचक है । इस संदर्भ में वे स्वयं कहते हैं,  ‘सर्व रावणपत्नियों को निःशंक लेटे हुए मैंने देखा; परंतु उन्हें देखने से मेरे मन में विकार उत्पन्न नहीं हुआ ।’ -वाल्मीकिरामायण, सुंदरकांड ११.४२-४३

इंद्रियजीत होने के कारण हनुमान जी रावणपुत्र इंद्रजीत को भी पराजित कर सके । तभी से इंद्रियों पर विजय पाने हेतु हनुमान जी की उपासना बताई गई ।

चिरंजीवी : अपने विभिन्न अवतारों में प्रभु श्रीराम तो वही रहते हैं, परंतु प्रत्येक अवतार में हनुमान का स्थान कोई और ले लेता है । हनुमान सप्तचिरंजीवों में से एक हैं, फिर भी चार युगों के अंत में ये सप्तचिरंजीव मोक्ष को प्राप्त होते हैं व इनका स्थान सात(आध्यात्मिक दृष्टि से) अति उन्नत व्यक्ति ले लेते हैं ।

बुद्धिमान : व्याकरणसूत्र, सूत्रवृत्ति, भाष्य, वार्तिक एवं संग्रह में हनुमान जी की बराबरी करनेवाला कोई नहीं था ।(श्रीवाल्मीकिरामायण, उत्तरकान्ड, सर्ग ३६, श्‍लोक ४४-४६) हनुमान को ग्यारहवां व्याकरणकार मानते हैं ।

मूर्तिविज्ञान

मारुति के विविध रूप हैं । जैसे दासमारुति, वीरमारुति, पंचमुखी मारुति पंचमुखी मारुति की मूर्ति बडे आकार की होती है । इसके पांच मुख होते हैं – गरुड, वराह, हयग्रीव अर्थात घोडा, सिंह एवं कपिमुख । ऐसी दशभुज मूर्तियों के हाथों में ध्वज, खडग, पाश इत्यादि शस्त्र होते हैं । पंचमुखी देवता का एक अर्थ ऐसा है कि, पूर्व, पश्चिम, दक्षिण एवं उत्तर, यह चार तथा ऊध्र्व अर्थात ऊपरी दिशा, इन पांचों दिशाओंपर उस देवता का स्वामित्त्व होता है ।

दक्षिणमुखी मारुति : इस मूर्ति का मुख दक्षिण की ओर अर्थात मूर्ति की दाहिनी ओर होता है, इसलिए इसे दक्षिणमुखी मारुति कहते हैं । दाहिनी ओर देखनेवाले मारुति की सूर्यनाड़ी कार्यरत होने के कारण उनसे शक्ति की अनुभूति होती है । इनकी उपासना अनिष्ट शक्तियों के निवारण के लिए की जाती है ।

वाममुखी मारुति: इस मूर्ति का मुख मूर्ति की बाईं ओर होता है, इसलिए इन्हें वाममुखी मारुति कहते हैं । वाममुखी मारुति की चंद्रनाडी कार्यरत रहती है । दक्षिणमुखी मारुति की तुलना में इनसे अल्प शक्ति की अनुभूति होती है ।

हनुमान जी की पूजा विधि

: पूजापूर्व पूजक अपनी नाक के मूलपर मध्यमा से सिंदूर लगाए । हनुमानजी को अनामिका से चंदन लगाएं । इसके उपरांत सिंदूर चढाएं । सिंदूर चढाने के उपरांत अक्षत अर्पण करें । हनुमानजी को मदार के पुष्प एवं पत्ते चढाएं । पुष्प एवं पत्ते पांच या पांच के गुणांक में चढाएं । हनुमानजी को मदार के पुष्प एवं पत्तों से बनी माला पहनाएं । हनुमानजी की पूजा विधि में केवडा, चमेली या अंबर, इन उदबत्तियों का उपयोग करें । उदबत्ती की संख्या दो हो । दाहिने हाथ की तर्जनी अंगूठे के बीच उदबत्ती पकडकर घडी की सुइयों की दिशा में पूर्ण गोलाकार पद्धति से तीन बार घुमाएं । इसके उपरांत हनुमानजी को दीप दिखाएं । अंतमें हनुमानजी को नैवेद्य समर्पित करें । इस प्रकार पूजा करने के उपरांत आरती, मंत्रपुष्प, परिक्रमा एवं नमस्कार करें । हनुमानजी की अल्प से अल्प पांच या पांच की गुणा में परिक्रमाएं करें । स्थान के अभाव अथवा अन्य कारणवश परिक्रमा करना संभव न हो, तो अपने चारों ओर तीन बार गोल घूमकर परिक्रमा लगाएं ।

शनि की साढ़ेसाती व मारुती की पूजा 

: शनि की साढ़ेसाती दूर करने के लिए मारुती की पूजा की जाती है।

हनुमान जयंती अथवा हनुमान जन्मोत्सव

:  जयंती शब्द का शब्दकोश में अर्थ दिया है, किसी की जन्मतिथि पर मनाया जानेवाला उत्सव, जो प्रचलित है । जयंती देवता, संत एवं महापुरुषों की मनाई जाती है । हनुमानजी भी इस श्रेणी में आते हैं । हमें इस अर्थ का संदर्भ कहीं नहीं मिला कि जो संसार में नहीं है उसी की जयंती मनाई जाती है : जयंती अनेक देवताओं की भी मनाई जाती है । उदा. दत्त जयंती, वामन जयंती, परशुराम जयंती आदि । परशुराम भी श्री हनुमानजी के समान चिरंजीवी हैं, जिनकी जयंती मनाई जाती है । इसलिए, हनुमान जन्मोत्सव के स्थान पर हनुमान जयंती शब्दप्रयोग करना अधिक उचित होगा ।

हनुमान जी को घर में नहीं अपितु घर के बाहर रखना है क्या यह सही है ?

– आज कहा जाता है – ‘शास्त्रात् रुढिर्बलियसी’ ! धर्मशास्त्र के अज्ञान के कारण ऐसे अनेक अयोग्य विचार, रुढियां समाज में पनप रही हैं । हनुमानजी को घर में नहीं रखना, भगवान श्रीकृष्ण का महाभारत का चित्र घर में नहीं रखना, सुदर्शन चक्र वाला चित्र घर में नहीं रखना, यह सब अंधविश्‍वास की बातें हैं । दुःख की बात है कि एक ओर तो हम चीनी मेंढक, लाफिंग बुद्धा तथा दौडने वाले 7 घोडों का चित्र हम घर में रख रहे हैं, तो दूसरी ओर अपने ही देवी-देवताओं को घर से बाहर निकाल रहे हैं । कई बार हमारे धर्मविरोधी भी इस प्रकार प्रचार करके हमारे धर्म के संदर्भ में गलत धारणाओं को फैलाने का कार्य करते हैं । हमें इससे बचकर रहना चाहिए ।

संदर्भ : सनातन संस्था का लघुग्रंथ ‘मारुति

श्री. गुरुराज प्रभु,
सनातन संस्था
संपर्क – 9336287971

RB NEWS INDIA
For More Information You Can Contact us Call - +919425715025 For News And Advertising - +919926261372
https://rbnewsindiagroup.com