अम्बाह मुरैना

काकोरी घटना के महानायक राम प्रसाद बिस्मिल की जयंती आज – सौरभ जैन

अंबाह। राम प्रसाद ‘बिस्मिल’ का जन्म- 11 जून को शाहजहाँपुर मे हुआ था। बिस्मिल के दादाजी मूल रूप से मुरैना जिले के अंबाह तहसील के ग्राम बरवाई के रहने वाले थे। यह गांव चंबल नदी के बीहड़ों के बीच स्थित तोमरघार क्षेत्र के मुरैना जिले के अंबाह में हैं। यहां के निवासी निर्भीक, साहसी और अंग्रेजों से सीधे रूप से चुनौती देने वाले थे। यहां के लोगो का जब मन करता वो अपनी बंदूके लेकर नदी पार करके उस क्षेत्र के ब्रिटिश अधिकारियों को धमकी देकर वापस अपने गांव लौट आते। राम प्रसाद बिस्मिल में भी यही का पैतृक खून था जिसका प्रमाण उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ क्रांतिकारी गतिविधियों को कार्यान्वित करके दिया। बिस्मिल भारत के महान् स्वतन्त्रता सेनानी ही नहीं, बल्कि उच्च कोटि के कवि, शायर, अनुवादक, बहुभाषाविद् व साहित्यकार भी थे जिन्होंने भारत की आज़ादी के लिये अपने प्राणों की आहुति दे दी।राम प्रसाद ‘बिस्मिल के लिखे ‘सरफ़रोशी की तमन्ना’ जैसे अमर गीत ने हर भारतीय के दिल में जगह बनाई और अंग्रेज़ों से भारत की आज़ादी के लिए वो चिंगारी छेड़ी जिसने ज्वाला का रूप लेकर ब्रिटिश शासन के भवन को लाक्षागृह में परिवर्तित कर दिया।

RB NEWS INDIA
For More Information You Can Contact us Call - +919425715025 For News And Advertising - +919926261372
https://rbnewsindiagroup.com