देश

महिला अपराधों के प्रति पुलिस अधिकारियों को संवेदनशील बनाने हेतु उन्मुखीकरण प्रशिक्षण आयोजित

उन्मुखीकरण प्रशिक्षण 

दतिया। पुलिस अधिकारियों को महिलाओं पर होने वाले अपराधों के प्रति संवेदनशील बनाने हेतु दो दिवसीय उन्मुखीकरण कार्यशाला का आयोजन पुलिस कंट्रोल रूम में पुलिस मुख्यालय भोपाल के निर्देशन व पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी के मार्गदर्शन में महिला प्रकोष्ठ दतिया द्वारा किया गया।
कार्यशाला में स्रोत व्यक्ति के रूप में ज्वाइन डायरेक्टर
एस. पी. शर्मा, डी पी ओ प्रमोद कुमार गर्ग, डॉ. सतीश मान एफएसएल अधिकारी, सामाजिक कार्यकर्ता रामजीशरण राय बालमित्र, सदस्य जिला पुलिस परिवार परामर्श केन्द्र, शाहजहाँ कुरैशी नाज संस्था, घनश्याम पाठक आदि उपास्थित रहे।
आयोजित प्रशिक्षण में संभागीय फोरेंसिक लेब्रोटरी ग्वालियर के ज्वाइन डायरेक्टर
एस. पी. शर्मा ने प्रस्तुतिकरण में विभिन्न प्रकार की घटनाओं के साक्ष्य एकत्र करने में बरती जाने वाली बारीकियों की जानकारी देते हुए फोरेंसिक संबंधी विन्दुओ पर
रेल कटिंग, जलने से , पानी मे डूबने से, फांसी पर लटककर हुई मृत्यु में किस प्रकार साक्ष्य एकत्र करना है बताया। एंटीमार्टम व पोस्टमार्टम को व्यापक रूप से बताया।

जिला अभियोजन अधिकारी प्रमोद कुमार गर्ग ने उन्मुख करते हुए कानूनी विन्दओं पर व्यापक जानकारी दी। एफ एस एल अधिकारी डॉ सतीश मान ने मेडिकल प्रपत्र में चाही गयी जानकारी भरने हेतु सावधानी बताई।साथ ही शव विच्छेदन प्रतिवेदन में चिकित्सक से आवश्यक वी एस स्लाइड, प्राइवेट पार्ट, गर्भाशय की जाँच के बारे में बताया गया।

महिला प्रकोष्ठ प्रभारी नेहा शर्मा ने प्रशिक्षण के उद्देश्य बताते हुए स्रोत व्यक्तियों का परिचय कराया। उन्होंने प्रतिभागियों के प्रश्नों के उत्तर दिये।

वरिष्ठ समाजसेवी रामजीशरण राय बालमित्र/ पैरालीगल वॉलेंटीयर ने गर्भधारण पूर्व एवं प्रसव पूर्व निदान तकनीकि अधिनियम 1994, एम टी पी एक्ट के कानूनी  संबन्धित जानकारी देते हुए लैंगिक अपराधों से बालकों संरक्षण अधिनियम 2012 एवं कार्यस्थल पर यौन हिंसा अधिनियम 2013 की जानकारी देते हुए  स्थानीय परिवाद समिति, आन्तरिक परिवाद समिति गठन करने की वैधानिक प्रक्रिया बताई गई। साथ ही महिला मुद्दों पर संवेदनशीलता बढ़ाने हेतु स्थानीय उदाहरण देने हेतु उन्मुखीकरण किया।

शाहजहाँ कुरैशी नाज समाजसेवी संस्था ने घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम 2005 व वन स्टॉप सेंटर की जानकारी दी। सेवा निवृत्त डी एस पी घनश्याम पाठक ने जांच के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों को बताया।

प्रशिक्षण में गत वर्ष पुलिस अधिकारियों को महिला अपराधों पर संवेदनशील बनाने हेतु स्रोत व्यक्ति /रिसोर्स पर्सन विषय विशेषज्ञ के रूप में सहयोग प्रदान करने हेतु जिला अभियोजन अधिकारी प्रमोद गर्ग, एफ एस एल अधिकारी डॉ . सतीश मान, सामाजिक कार्यकर्ता रामजीशरण राय, शाहजहाँ कुरैशी, वरिष्ठ पत्रकार सतीश उदैनिया व घनश्याम पाठक को सम्मान पत्र प्रदान कर ज्वाइन डायरेक्टर एस पी शर्मा सम्भागीय फोरेंसिक लेब्रोटरी ग्वालियर ने सम्मानित किया।

प्रशिक्षण में जिले में पदस्थ विभिन्न थानों के पुलिस अधिकारी उपस्थित रहे। इस अवसर पर नेहा शर्मा राजेन्द्र रजक, राजावत सहित महिला प्रकोष्ठ स्टाफ उपस्थित रहा।

RB NEWS INDIA
For More Information You Can Contact us Call - +919425715025 For News And Advertising - +919926261372
https://rbnewsindiagroup.com