आस्था भिण्ड मध्य प्रदेश

मानहड़-धर्म की रक्षा स्वयं धर्म करता है-आचार्य बैभव

मानहड़-कथा श्रवण करती महिलाए
गोरमी-यह बात नगर से पॉच किलोमीटर दूर ग्राम पंचायत मानहड़ मे चल श्रीमद भागवत कथा के चौथे दिन आज धर्म चर्चा करते हुए आचार्य बैभव जी ने कही, श्री बैभव जी ने बताया की भारत बर्ष मे जब जब धर्म की हानि होती है,सन्जनो पर अत्याचार होता और पाप बड़ता है, तब तब धर्म की पुनर्स्थापना हेतु और सज्जनो की रक्षा हैतु भगवान का जन्म होता है,क्योकिं
गीता मे स्वयं भगवान श्रीकृष्ण ने कहा है कि “धर्मो रक्षति रक्षितः”अथार्थ धर्म की रक्षा स्वयं धर्म करता है,
इस बात को उन्होने गज और ग्रह की कथा का बर्णन करते हुए सिझाया, श्री आचार्य बैभव जी ने कहा जब ग्रह गज का पैर पकड़ कर लेता है,तो गज अपनी पूरी ताकत लगाता है,किन्तु वह निकल नही पाता है,तब वह अन्त मे सबकुछ प्रभु को अर्पण कर कहता है, है प्रभु अब आप ही मुझे पार कर सकते हो तो प्रभु दौड़कर उसे ग्रह के बंधन से मुप्ती दिला देते है इसी तरह यदि हम सॉसारिक माया मोह के बन्धन को छोड़कर प्रभु की शरण मे पहुच जाते है,तो प्रभु स्वयं ही हमारे सारे कष्टो से हमे मुप्ती दिला देते है,और संसार सागर से पार करते है,फिर हमे इस माया मोह के चक्कर मे कभी नही पड़ना पड़ता.
आज की इस मनमोहक कथा का आनंद पारिक्षत चन्द्रहास सिंह,जिलापंचायत सदस्य राहुल सिंह भदौरिया,जगपाल सिहं,शीलू सिहं,मुकेश सिंह, चन्दपाल सिंह, रामपाल सिहं,राजकुमार सिहं,कमल सिहं,राजपाल सिहं भदौरिया सहित सैकड़ो भक्तजनो ने लिया

RB News india
Editor in chief - LS.TOMAR Mob- +919926261372 ,,,,,. CO-Editor - Mukesh bhadouriya Mob - +918109430445
http://rbnewsindiagroup.com