भिण्ड मध्य प्रदेश

भिण्ड-भिण्ड जेल में बंद आपराधिक प्रकरणों में बंद कैदियों भीषण गर्मी के कारण परेशान, जेल प्रशासन ने नहंी की गर्मी से बचने की व्यवस्थाऐं*

मुकेश भदौरिया पत्रकार*
भिण्ड। आज हम जिला उपजेल के सामने से गुजर रहे थे तभी जेल के सामने भीड़ दिखी मैंने अपनी बाइक को रोका, और जेल के पास पहुँचकर जानना चाहा कि आखिर मामला क्या है, जब पता चला कि जेल में बंद कैदियों से मिलने के लिए उनके परिवारीजन हैं, तो मैंने उनसे कहा कि भीड़ क्यों लगाये हुये हो, मिलने में कोई परेशानी आ रही है क्या, उन्होंने कहा कि आप पत्रकार हो मैंने कहा हाँ छोटा से पत्रकार भी हूँ मैंने उनसे कहा कि आप लोगों का जेल में कौन बंद है तो किसी ने कहा कि मेरा भाई तो किसी ने कहा कि मेरे पिता तो किसी ने कहा मेरे रिश्तेदार, उन्होंने कहा कि पत्रकार महोदय मेरी पीड़ा को आप अपने समाचार पत्र में छाप सकते हो मैंने कहा क्यों नहीं उन्होंने जेल की व्यवस्थाओं पर पृश्र चिन्ह खड़ा करते हुऐ कहा कि इस समय नोतपा के चलते भीषण गर्मी का दौर जारी है, जेल में बंद कैदियों के लिए कूलर, पँखों की उचित व्यवस्था नहंी है, कैदी इस गर्मी में तड़प रहे हैं, हाल बेहाल है, ठण्डा पानी पीने के लिए नहंी मिल रहा है, वैसे ही कैदी जेल की चार कोठारी में बंद है, ऊपर से नौतपा में पड़ रही भीषण गर्मी से तड़प रहे हैं।
उसी समय मेरी नजर एक 50 वर्षीय महिला पर पड़ी भीषण गर्मी और ऊपर से बड़ा बेटा जेल में बंद पीड़ा उसी के दिल पर गुजर रही होगी, मैंने कहा कि माताजी आप क्यों परेशान हो रही हो, मैंने कहा कि आपका बेटा जल्द जमानत मिलने के बाद आप सभी के बीच होगा, तो आँखों में आँसू भरते हुये कहा कि लला मैं जब बाहर खड़ी हॅूं, तो गर्मी से तड़प रही हॅूं, मेरे बेटा का क्या हाल होगा क्योंकि जेल में कूलर भी नहीं हैं, उसने कहा कि जेलर साहब चाहें तो मैं कर्ज से पैसे लेकर एक कूलर इस जेल में ला सकती हॅूं, ताकि कैदी लोग कम से कम रात में आराम से भरपूर नींद तो ले सकें। तो कई लोगों ने कहा कि कैदी लोग अगर अपराध न करते होते तो जेल की बैरिंगों में बंद नहीं होते, इस समय चल रहे नौतपा, भीषण गर्मी से अगर भिण्ड जेल की बात की जाये तो वहाँ बंद कैदी इस समय भीषण गर्मी से लड़ रहे हैं, बैरिंगों में गर्मी से बचने की कोई उचित व्यवस्था नहंी है, जबकि कूलर और फंखे तथा ऐसी भी लगानी चाहिये। भीषण गर्मी को देखते हुये कैदी अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं, और बीमारियाँ फैलने की आशंकाऐं हैं, बैरिंगों में हवा लेने के लिए भी कोई उचित व्यवस्था नहीं हैं। जेल प्रशासन अपनी आँख बंद कर नौतपा में तप रहे कैदियों की हालत को देख रहे हैं।
यही हाल भिण्ड जिले की अन्य जेलों में भी कैदियों का यही हाल है, कई कैदी इस भीषण गर्मी को देखते हुये कैदियों को परिजन जब उनसे मिलने के लिए आते हैं, तो वो बताते हैं कि जेलों में हम लोगों को काफी दिक्कतें उठानी पड़ रही हैं, जबकि ठण्डा जल पीने के लिए भी कोई उचित व्यवस्था नहीं हैं। जिससे हम अपना जीवन रहकर हम बिता सकें, लेकिन जेल प्रशासन को इन व्यवस्थाओं पर अधिक ध्यान देना चाहिए। ताकि गर्मी के सीजनों में जेल में बंद कैदियों को परेशानियों का सामना न करना पडें। जेल में बंद कैदियों के परिजनों ने बताया कि रात के समय में कैदियों का सोना बड़ा दुर्लभ है, कहीं लाईट चली जाती है, यहाँ मच्छरों का भारी प्रकोप भी देखने को मिल रहा है, इस भीषण गर्मी में रातभर कैदियों को बैठ-बैठकर रात काठनी पड़ी है।

RB News india
Editor in chief - LS.TOMAR Mob- +919926261372 ,,,,,. CO-Editor - Mukesh bhadouriya Mob - +918109430445
http://rbnewsindiagroup.com