दतिया मध्य प्रदेश

जब विश्व के अनेक देश विभाजित होकर एक हो सकते हैं तो भारत क्यों नहीं -सदानंद सप्रे

दतिया। (रामजी शरण राय, ब्यूरो चीफ RB न्यूज इंडिया दतिया) विश्व के अनेक देश विभाजित होकर एक हो सकते हैं तो भारत क्यों नहीं। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद जर्मनी वियतनाम और कोरिया विवादित हो गया लेकिन विश्व की बदलती हुई परिस्थितियों में यह सभी देश को ना एक हो गए इसी तरह भारत का विभाजन भी 1947 के हुआ लेकिन हमने इस विभाजन को खत्म करना असंभव मान लिया जिसके कारण हम एक नहीं हो सके। अगर हम ठान लें तो अखण्ड भारत का स्वप्न साकार होना असंभव नही”उक्त विचार राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ द्वारा आयोजित अखण्ड भारत दिवस के अवसर पर मुख्य वक्ता के रूप में आये संघ पदाधिकारी सदानंद सप्रे ने व्यक्त किये। उन्होने कहा कि 1857 के बाद लोगों ने मान लिया था कि जब तक सूरज चांद रहेगा तब तक अंग्रेजी सत्ता ही कायम रहेगी। लेकिन उसके बाद तमाम क्रांतिकारियों और अहिंसा के रास्ते सत्याग्रह करने वालों ने उस असंभव को संभव करते हुये देश को अंग्रेजी सत्ता से मुक्त किया। आज ज्यादा से ज्यादा ऐसे जिद्दी लोगों की जरूरत है जो विभाजित भारत मां को पुनः अखण्ड कर दें। कार्यक्रम के दौरान जेपी भार्गव,रामवावू सोनी और पप्पू सरदार मंचासीन रहे। कार्यक्रम का संचालन मनोज भटनागर ने किया। कार्यक्रम के दौरान राजनीति और समाजिक साहित्य क्षेत्र के अलावा सैकड़ों की संख्या में उपस्थिति रहे।

RB NEWS INDIA
For More Information You Can Contact us Call - +919425715025 For News And Advertising - +919926261372
https://rbnewsindiagroup.com