गोहद भिण्ड मध्य प्रदेश

गोहद न.पा. में फर्जी वाड़े की इन्तहा  सीएमओ  वसूली पर

गोहद(भिंड)  गोहद नगरपालिका में फर्जीवाड़े की  इतनी इंतहा हो चुकी है विगत १० साल से  बाजार हाट  वसूली का प्राइवेट  ठेका  नगर पालिका द्वारा नहीं कराया जाता है  स्वयं नपा के  द्वारा  वसूली कराई जाती है  यहां आपको बता दें कि  नपा के द्वारा १३० हाट ठेला, ४१० फुटपाथ दुकान है  गुरुवार को   गंज बाजार में हॉट लगती है १८० दुकाने अतिरिक्त आती है  इसके बावजूद भी  बाजार हाट वसूली प्रतिदिन  मात्र  नपा द्वारा  350,400,अधिकतम ₹650 जमा किए जा रहे हैं  गोहद में इन दिनों  नपा सीएमओ  साहब   के लिए  अल्लादीन  का चिराग जैसा जिन साबित हो रही है  जिसको  सीएमओ साहब  दिन-रात किसने में लगे हुए हैं  यहां स्थिति यह निर्मित हो गई है कि   साहब को नपा में बैठने की फुर्सत ही नहीं है  नगर में  किसी गोपनीय जगह एक कमरा किराए से ले रखा है  वहीं से न.पा.का संचालन किया जा रहा है  जनता अपनी मूलभूत समस्याओं को लेकर  भटक रही है

मगर साहब के दीदार नहीं हो रहे  हैं  साहब बरसों से अकाउंट पद पर  पदस्थ थे और अव  मध्य प्रदेश में जैसे ही कांग्रेस सरकार बनी    उन्होंने सांठगांठ कर  स्वयं प्रभारी  सीएमओ बन नगरपालिका निधि का दुरुपयोग कर शासन को लाखों करोड़ों रुपए की चपत  लगाई जा रही है  कारण खुद ही अकाउंटेंट   खुद ही सीएमओ जो है  इनकी पहुंच इतनी गहरी है कि  वर्तमान में नपा में अकाउंटेंट  मौजूद है  लेकिन उसको भी चार्ज नहीं लेने दिया है  जब से यह मंचासीन हुए हैं  तब से कोई भी नपा में कार्य  छोटे कर्मचारी से लेकर इन तक  बिना पैसों की नहीं किया जा रहा है  जिसका जैसा काम जिसके जैसे पैसे  अब आप इसी बात से अंदाजा लगा सकते हैं कि  इस बंदे की कितनी गहरी  पहुंच  है  की  शुक्रवार को  नपा के समस्त पार्षदों ने इसकी फर्जीवाड़े की  पूरी जानकारी स्वयं कलेक्टर के नाम ज्ञापन  एडीएम  एके चांदिल साहब को  को लिखित में दी है तब भी इसकी कान पर जूं नहीं रहेंगी   अब आपको यह बताएं कि  नगर पालिका में  प्राइवेट  ठेका १० साल पहले  १५ से २० लाख  रुपए का साल का होता था  विगत १० साल से यह ठेका  प्राइवेट न देकर नपा द्वारा स्वयं वसूली की जाती है   नपा के अंतर्गत 130 हाथ ठेले है एक ठेले से 3 रू.लिऐ जाते है इसप्रकार 130×3=390 प्रतिदिन  फुटपाथ दुकाने 410×5=2050 इसके अलावा  नगर में गुरुवार को  बाजार हॉट  लगती है  जिसमें180  दुकान अतिरिक्त लगती हैं जिसमें  प्रति दुकान से  10 रू. के  हिसाव लिऐ जाते है  180×10=1800 रू. हुऐ  और नगरपालिका  राजस्व  वसूली  प्रतिदिन मात्र 350, 400,अधिकतम 650रू.जमा होती है   इसके अलावा  नगर में  ईट भट्टे  होटल ओवरलोड वाहन  ट्रकों से भी अवैध वसूली की जा रही है   अब आप  हिसाब लगाओ की  नपा को कितनी राजस्व हानि  पहुंचाई जा रही है  इसके अलावा  मस्टर कर्मचारी   पहले मात्र ७५ थे  अब वेतन निकाला जा रहा है २७५ ओं का  इसके अलावा  ऑफलाइन  कार्यों  फर्जी भुगतान  अकाउंटेंट निधि का दुरुपयोग  स्ट्रीट लाइट  हेडपंप सामग्री  भी फर्जीवाड़े की भेंट चढ़ी है  पहले भी  कई बार  बाजार हाट वसूली का  मुद्दा  सूचना के अधिकार के तहत पार्षदों नगर के समाजसेवियों द्वारा उठाया जा चुका है  मगर मामला ढाक के तीन पात ही रहता है  मास्टर कर्मचारी  बाजार हाट वसूली  मैं इतनी पारदर्शिता है कि आपके सामने है  की कितनी दुकानें हैं  प्रतिदिन कितने की आवक है  कितनी जमा हो  रहे हैं  इंतहा तो तब हो जाती है कि  सोमवार को  सीएमओ साहब  प्राइवेट कर्मचारी को लेकर  नगर में हाथ ठेले वालों से  दुकानदारों से  खुद ही वसूली  करने निकल पड़े  जिसका छायाचित्र खबर नवीज़ ने  कैमरे में कैद कर लिया है ऐसा नहीं है कि इस वसूली की  नपा में या अधिकारी कर्मचारियों को  इसकी जानकारी ना हो  सबको पता है  सबकी अपनी-अपनी भजन दारी के हिसाब से  सबको बंदरबांट किया जाता है  मगर  पिसती  गोहद  की भोली-भाली गरीब जनता ही है

RB NEWS INDIA
For More Information You Can Contact us Call - +919425715025 For News And Advertising - +919926261372
https://rbnewsindiagroup.com