ग्वालियर भोपाल मध्य प्रदेश

Madhya Pradesh : महिला अत्याचार की ग्वालियर में हर रोज सात एफआईआर

भोपाल। Women atrocities cases in Madhya Pradesh मध्य प्रदेश में आपराधिक घटनाओं में सबसे ज्यादा खराब स्थिति महिला अत्याचार की है। ग्वालियर में जहां रोज सात घटनाएं हो रही हैं तो भोपाल, इंदौर और जबलपुर में भी ऐसी घटनाएं हर दो दिन में तीन से लेकर नौ तक हो रही हैं। इसके अलावा अपहरण की घटनाओं में भी भोपाल, इंदौर, जबलपुर में इस साल हर दो दिन में तीन से लेकर चार घटनाएं हुईं। लुटेरों ने प्रदेश के चारों बड़े शहरों में से ग्वालियर में हर तीसरे दिन तो भोपाल में हर चौथे दिन कोई न कोई वारदात को अंजाम दिया।

यह राजफाश एक जनवरी से 20 नवंबर 2019 की अवधि के बीच हुए अपराधों के आंकड़ों से हुआ है।

आंकड़ों के मुताबिक लुटेरों ने जहां भोपाल में हर चार दिन में एक वारदात कर उपरोक्त अवधि में 92 घटनाएं कीं। वहीं इंदौर और जबलपुर में लुटेरों ने हर पांचवें दिन वारदात की। लुटेरों ने सबसे ज्यादा लूट की वारदातें रीवा जिले में कीं, जहां हर तीसरे दिन किसी न किसी लूट की घटना से शहर के लोग पीड़ित हुए। लुटेरों ने धार और उज्जैन में भी क्रमश: 53 व 49 घटनाएं कीं।

वहीं, प्रदेश से सूचीबद्ध डकैत गिरोहों के समाप्त होने के दावे किए जाने के बाद भी ग्वालियर-चंबल व विंध्य के कुछ क्षेत्रों में लगातार इस साल घटनाएं हुईं। इस साल की 20 नवंबर तक की अवधि में डकैतों ने सबसे ज्यादा धार जिले में 13 और आलीराजपुर में छह वारदात की। हालांकि ग्वालियर-चंबल व विंध्य के भिंड, ग्वालियर, शिवपुरी और सतना जिलों में भी डकैती की घटनाओं से लोग पीड़ित रहे। भिंड जिले में आठ तो ग्वालियर, शिवपुरी, सतना में चार-चार वारदातें कर डकैतों ने आतंक मचाया। वहीं, भोपाल, इंदौर और जबलपुर जिलों में भी डकैती की घटनाएं दर्ज की गईं।

सबसे संवेदनशील मुद्दे महिला अत्याचार पर बड़ी-बड़ी बातें होने के बाद भी ऐसे अपराधों में कमी नहीं आ रही है। ग्वालियर में इस साल बीते 20 नवंबर तक की अवधि में 2366 घटनाएं हुईं तो इस मामले में उज्जैन दूसरे नंबर पर रहा। उज्जैन में 1786 घटनाएं हुई।

भोपाल में महिला अत्याचार के 1545, इंदौर में 1042 तो जबलपुर में 496 अपराध पंजीबद्ध हुए। इनके अलावा मुरैना, सागर, छतरपुर, राजगढ़, होशंगाबाद, शहडोल, शिवपुरी, सीहोर, देवास, गुना, विदिशा, रतलाम, सिवनी व दतिया जिले में कम से कम 500 से 1000 महिलाएं ऐसी घटनाओं से पीड़ित होकर पुलिस थानों में पहुंचीं।

राजधानी भोपाल में अपहरण की सबसे ज्यादा घटनाएं हुईं और लगभग पांच दिन में नौ लोगों के अपहरण के अपराधों का रिकॉर्ड दर्ज हुआ है। इदौर, जबलपुर और ग्वालियर में भी 565 से लेकर 314 अपहरण की घटनाएं पुलिस में दर्ज हुईं। इन बड़े शहरों के अलावा सागर में 401, रीवा में 380 व सतना में 350 लोगों के अपहरण की घटनाएं सामने आईं।

RB NEWS INDIA
For More Information You Can Contact us Call - +919425715025 For News And Advertising - +919926261372
https://rbnewsindiagroup.com