उत्तर प्रदेश ओरैया

पंचनद के बीहड से गायब नो वन्य जीवों की प्रजातियों 

उत्तरप्रदेश –

पंचनद के बीहड से गायब नो वन्य जीवों की प्रजातियों 

पांच तरह की प्रजातियों पर बना हुआ संकट 

औरैया । एक और यहां सरकार वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए करोड़ों रुपए खर्च कर रही मगर विभागीय अधिकारी सरकार के नियमों का
पालन कहीं भी करते नजर नहीं आ रहे है किसी कारण बीहड वन्यजीव विलप्त होते जा रहे ।

जिसके चलते पंचनद के बीहड़ में वन्य जीवोंका जीवन भी संकट में है । इस इलाके में नौ प्रकार के वन्य जीव ऐसे चिन्हित किये गए जो कि 1980के बाद से नजर ही नही आए ।यही नही बीहड में से पांच प्रकारकी वन्य जीव प्रजातियों विलुप्त होने की कगार परहै । यह संकट इस इलाके में विलायती बबूल बोय जाने के बाद से पैदा हुआ है। विलायती बबूल के कांटों से गददीदार पैरो बाले जानवरों को लगभग बीहड से खत्म कर दिया है । सरकार पंचनद के बीहडों में भले ही लायन सफारी व चंबल सेंचुरी चल रही है मगर सच तो यह है कि बीहड में कई प्रजातियों पर संकट बना हुआ है। जबकि कई ऐसी पर जाती हैं जो अब नजर नहीं आ रही। सोसाइटी फार कंजर्वेशन आफ नेचर के एक सर्वे में यह बात साफ हुई कि बीहड में 9 तरह के वन्य जीव ऐसे है जो 1980 के बाद से नजर नही आये है। इसमें सफेद गिध्द , तेंदुआ बारह सिंघा , चीतल , काला हिरण , पाक्स , केरक़ील , और प्लेंगु इन , प्रमुखहै ।कभी बीहड में बड़ी संख्या में पाए जाने वाले यह जीव अब विलुप्त हो चुके है।यही नही पांच तरह के ऐसे जिनके ऊपर संकट मंडरा रहाहै।
सबसे बड़ी बात यह है कि वाइल्ड लाइफ विभाग दुवारा इन जीवों की गणना कभी नही की जाती है ।बल्कि सरकार जगह जगह लाइन सफारी , चिड़ियाघर आदि जगहों पर वन्य प्राणियों को संरक्षण के किये खोल रही है। जबकि विभाग द्वारा बीहड़ी इलाके में घुस रहे इन वन्य जीवोंकी ओर कोई ध्यान नही दिया जा रहा है ।

विलुप्त होने वाली 9 प्रजातियों 

1- सफेद पीठ वाला गिद्द
2- लम्बी चोंच वाला गिद्द
3- तेंदुआ
4- केरक़ील
5- बारासिंघा
6- काला हिरण
7- लोमड़ी
8- ऊदबिलाव
9- पेंगोलिन
संकट में सात प्रजातियों

1- सेही
2- कबरबिज्जू
3- लकड़बग्घा
4- चीतल
5- साभार
6- लाल हिरण

इन जीवो के विलुप्त होने का मुख्य कारण है कि प्राकृतिक वास नष्ट होना दूसरा कारण है प्रदूषण और तीसरा कारण है अवैध शिकार ।इसके अलावा गर्मियों लगातार बढ़ रहा तापमान भी इनके लिये हानिकारक सिद्द हो रहा है ।बीहडों इलाके में हरे पेड़ो का कटान भी इन प्रजातियों के विलुप्त होने में भूमिका निभाई है।

RB NEWS INDIA
For More Information You Can Contact us Call - +919425715025 For News And Advertising - +919926261372
https://rbnewsindiagroup.com