भोपाल मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश / दिग्विजय ने राज्यसभा के लिए नामांकन भरा, कहा- ये विचारधारा की लड़ाई, सिंधिया ने इसमें गोडसे को चुना

 

मध्य प्रदेश / दिग्विजय ने राज्यसभा के लिए नामांकन भरा, कहा- ये विचारधारा की लड़ाई, सिंधिया ने इसमें गोडसे को चुना
नामांकन के समय दिग्विजय सिंह की पत्नी और बेटे जयवर्धन सिंह भी मौजूद थे।
नामांकन के समय दिग्विजय सिंह की पत्नी और बेटे जयवर्धन सिंह भी मौजूद थे।
ज्योतिरादित्य सिंधिया भोपाल पहुंच गए हैं,वह 13 मार्च को राज्यसभा के लिए पर्चा दाखिल करेंगे
बुधवार को खुद दिग्विजय सिंह ने राज्यसभा भेजे जाने के सवाल परकहा था- कमलनाथ जी से पूछे
मीडिया कोऑर्डिनेटर शोभा ओझा ने कहा- पार्टी उन्हें एक घंटे के अंदर उम्मीदवार घोषित कर देगी

भोपाल. पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने गुरुवार को विधानसभा मेंराज्यसभा के लिए नामांकन दाखिल किया। इस मौके पर सिंधिया के भाजपा से जुड़ने पर उन्होंने कहा-ये लड़ाई नेहरू-गांधी और गोडसे की विचारधारा की लड़ाई है। इसमें ज्योतिरादित्य सिंधिया ने गोडसे को चुना। हमें इस बात का दुख है। इससे पहले सिंह के नामांकन को लेकर संशय की स्थिति बन गई थी क्योंकि जब वे नामांकन के लिए पहुंचे, तब तक पार्टी ने उन्हें उम्मीदवार ही नहीं बनाया था। इस बारे में जबप्रदेश कांग्रेस की मीडिया प्रभारी शोभा ओझा से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा-पार्टी दिग्विजय सिंह कोउम्मीदवार घोषित कर देगी। अगर प्रत्याशी नहीं बनाए गए तोनामांकन कैसे दाखिल करेंगे? इससे पहले बुधवार शाम जब मीडिया ने दिग्विजय सिंह से पूछा था कि उन्हें राज्यसभा का प्रत्याशी कब बनाया जाएगा? तो उन्होंने कहा था किइस संबंध में कमलनाथ जी से पूछिए, वही बताएंगे।

सिंह ने कहा- सिंधिया से बेहतर मुख्यमंत्री भाजपा में नहीं होगा

सिंह ने मीडिया के सामनेदावा किया कि सिंधिया के कहने पर सैकड़ों तबादले हुए।मेरे गृह जिले में कलेक्टर-एसपी बदले गए।सिंधिया के मुताबिक टिकट बांटे गए।उनके विधायक मंत्री बनाए गए।उन्हें अध्यक्ष बनाने में भी कोई दिक्कत नहीं थी। हमें राज्यसभा भेजने में कोई दिक्कत नहीं थी। सिंधिया को डिप्टी सीएम बनाने का प्रस्ताव भी दिया गया था…लेकिन,वो तुलसी सिलावट को डिप्टी सीएम बनाना चाह रहे थे। सिंधिया से बेहतर मुख्यमंत्री भाजपा में नहीं होगा।

दिग्विजय सिंह ने राज्यसभा के लिए नामांकन भरा।
दिग्विजय ने कहा- भाजपा ने हमारे 19 विधायक कैद किए
दिग्विजय सिंह ने नामांकन दाखिल करने के बाद सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और कमलनाथ के साथ ही वर्किंग कमेटी के सभी सदस्यों का आभार जताया है। उन्होंने कहा- मुझे इस लायक समझा कि मैं राज्यसभा में मप्र का प्रतिनिधित्व करूं। मैंने शुरूआत मेंसोचा था कि तत्कालीन भारतीय जनसंघ का सदस्य बनूं, लेकिन जब उनकी विचारधारा देखी तो मैंने जनसंघ छोड़ने का निर्णय लिया। इसके बाद कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ली और आखिरी सांस तक कांग्रेस के सदस्य के रूप में काम करूंगा। मेरे लिए पद नहीं, विचारधारा महत्वपूर्ण है। मैंने कहा था- यदि 2003 में कांग्रेस की सरकार नहीं बनेगी तो में कोई चुनाव नहीं लडूंगा। मैंने उसे निभाया।”

भाजपा देश में धर्म के नाम पर नफरत फैला रही- सिंह
दिग्विजय ने कहा, ‘‘आज देश के हालात खराब हैं।अर्थव्यवस्था बिगड़ रही है। भाजपा जिस तरह से देश में धर्म के आधार पर नफरत फैला रही है, उसका कांग्रेस ने हमेशा विरोध किया है।’’उन्होंने कहा- कांग्रेस के 19 विधायकों को बेंगलुरू में कैद किया गया है। उनके फोन छुड़ा लिए गए हैं। ये भी अजीब बात है कि कांग्रेस विधायकों के इस्तीफे भाजपा के नेता भूपेंद्र सिंह लेकर आते हैं और वह उम्मीद करते हैं कि विधानसभा अध्यक्ष उसे स्वीकार भी कर लें। वह कहते हैं कि कांग्रेस का आतंरिक मामला है तो आप लोगों ने उन्हें बेंगलुरू में कब्जे में क्यों कर रखा है? उन्हें छोड़िए। भाजपा केवल अपनी सरकार बनाने के लिए जिस प्रकार के हथकंडेअपना रही है, इसे देश को समझना चाहिए। ये प्रजातांत्रिक व्यवस्था के खिलाफ है। कमलनाथ जी फ्लोर टेस्ट के लिए कह चुके हैं और हम तैयार हैं।

सिंधिया कल आएंगे, 13 को पर्चा दाखिल करेंगे
ज्योतिरादित्य सिंधिया आजभोपाल आएंगे।13 मार्च को राज्यसभा के लिए पर्चा दाखिल करेंगे। वे राजाभोज एयरपोर्ट से सीधे भाजपा प्रदेश कार्यालय आएंगे। यहां पर सिंधिया का स्वागत होगा। 13 मार्च को दोपहर 12 बजे वह राज्यसभा चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने विधानसभा पहुंचेंगे।

राज्यसभा चुनाव 26 मार्च को, 3 सीटों के लिए वोटिंग
मध्य प्रदेश में राज्यसभा की कुल 11 सीटें हैं। अभी भाजपा के पास 8 और कांग्रेस के पास 3 सीटें हैं। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा और पूर्व केंद्रीय मंत्री सत्यनारायण जटिया का राज्यसभा में कार्यकाल 9 अप्रैल को पूरा हो रहा है। इन तीनों सीटों पर 26 मार्च को चुनाव होना है। मध्य प्रदेश की 230 सदस्यों वाली विधानसभा में अभी 228 विधायक हैं। 2 विधायकों के निधन के बाद 2 सीटें खाली हैं, लेकिन मंगलवार को ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ते ही पार्टी के 22 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था।

RB NEWS INDIA
For More Information You Can Contact us Call - +919425715025 For News And Advertising - +919926261372
https://rbnewsindiagroup.com