ग्वालियर प्रेरणादायक लेख

ग्वालियर-इंदौर उज्जैन ओर भोपाल को देखते हुए क्या सही होगा 12 कि परीक्षा लेना

संपादक की कलम से

सहसंपादक-मुकेश सिंह भदौरिया
हमारे प्रदेश में भोपाल इन्दौर एवं उज्जैन में जो कोरोना की स्थिति है उसमें 12 वीं की बाकी परीक्षा लिए जाने का निर्णय लिया है क्या ये घातक नहीं है । इसे जुलाई या अगस्त में भी ली जा सकती है । शासन विचार कर जनहित मे निर्णय करें । दो लोगों को वृध्दावस्था एवं बाल अवस्था के लिए ये खतरनाक समय है । हाँ ये भी सच है कि 12 के उपरांत मूल्यांकन के आधार पर भविष्य निर्भर करता है तो क्या जून में जब कि कोरोना अपने सबाब पर है इन बच्चों की परीक्षा संचालित करना चाहिए । क्या ये निर्णय घातक नहीं है भोपाल इन्दौर एवं उज्जैन में जो स्थिति है उसमें क्या ये उचित निर्णय है । क्या प्रशासनिक अधिकारी इसके लिए तैयार है । क्या वो इन बच्चों की जान जोखिम में डालकर परीक्षा लेना चाहते हैं । यदि कोई अनहोनी घटना घटती है तो इसके लिए कौन जिम्मेदार होगा । जो छति होगी उसकी पूर्ति हो सकती है क्या । ये कोई मध्यप्रदेश की समस्या नहीं है पूरे विश्व की है ऐसे में शासन यदि कोई निर्णय बालकों के हित लेता है तो वो सर्वश्रेष्ठ और सर्वमान्य होगा । हमारा शासन से अनुरोध है कि हमारे मुख्यमंत्री आदरणीय शिवराजसिंह चौहान जी जनता को भगवान मानते हैं और उनके बाल गोपल को कोरोना की भट्टी में झोंक रहें हैं । आप सभी से अनुरोध है कि आप सभी अपने विचार व्यक्त करें आपके परिवार के बच्चे ही है ये मान कर अपने विचार व्यक्त करें । धन्यवाद एवं पुनः विचार करने के विश्वास के साथ ।

RB News india
Editor in chief - LS.TOMAR Mob- +919926261372 ,,,,,. CO-Editor - Mukesh bhadouriya Mob - +918109430445
http://rbnewsindiagroup.com