पर्यावरण भिण्ड मध्य प्रदेश मेहगांव

मावठे से चारों तरफ खुशियों की लहर लेकिन गिंगरखी गांव मे ओलों से किशानों के यहां पसरा मातम और सन्नाटा 

मावठे से चारों तरफ खुशियों की लहर लेकिन गिंगरखी गांव मे ओलों से किशानों के यहां पसरा मातम और सन्नाटा

दिनांक 3-1-21 को दिन मे लगभग 11.30 बजे जोरों की वारिष के साथ ग्राम गिंगरखी मे 50-100ग्राम के ओलों कि अतिवृष्टि ने किशानों के दिलों को दहला दिया सरशों की लहलहाती पीले फूलों वाली नाजुक फसल पर आशमानी औले कहर बनकर टूटे पीले फूलों की कांडर ऐसे टूटकर गिरी जैसे शिर धड से अलग होरहे हों

नुकसान 50से 70%हुआ है खेतों मे डुंडे पेड खडे है लेकिन कोई भी अधिकारी या नेता सुनने को तैयार नहीं होरहा है

उल्लेखनीय है कि गिंगरखी गांव आरएसएस के कट्टर स्वयं शेवकों का गांव है यहां से हर तरह के चुनावों मे बीजेपी जीतकर जाती रहने का इतिहास है

लेकिन कोई भी नेता अभी तक गरीब स्वयं शेवक किशानो के आंशू पोंछने नहीं पहुंचा है शासन प्रशासन बिल्कुल खामोश है यह भी उल्लेखनीय है कि गिंगरखी गांव एक शांतिप्रिय गांव है गिंगरखी गांव का रिकॉर्ड मेहगांव थाने मे बिल्कुल साफ सुथरा है

RB News india
Editor in chief - LS.TOMAR Mob- +919926261372 ,,,,,. CO-Editor - Mukesh bhadouriya Mob - +918109430445
http://rbnewsindiagroup.com