इंदौर दतिया मध्य प्रदेश शैक्षिक समाचार स्वास्थ्य

विश्व तंबाकू निषेध दिवस : तम्बाकू छोड़ने के लिए प्रतिबद्ध

जिंदगी चुनें, तम्बाकू नहीं

दतिया/ इंदौर @RBNewsindia.com/ Ramji Rai Datia>>>>>>>>>>> तंबाकू के उपयोग के नुकसान अच्छी तरह से स्थापित हैं। दुनियाभर में हर साल तंबाकू से 80 लाख लोगों की मौत होती है। भारत में हर साल 12-13 लाख लोगों की मौत तंबाकू से जुड़ी बीमारियों से होती है। WHO ने एक वैज्ञानिक संक्षिप्त विवरण जारी किया जिसमें बताया गया है कि धूम्रपान करने वालों को गंभीर बीमारी विकसित होने और COVID-19 से मृत्यु का अधिक खतरा होता है।

तंबाकू गैर संचारी रोगों जैसे हृदय रोग, कैंसर, श्वसन रोग और मधुमेह के लिए भी एक प्रमुख जोखिम कारक है। इसके अलावा, इन स्थितियों के साथ रहने वाले लोग गंभीर COVID-19 के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं। इन सभी को ध्यान में रखते हुए विश्व तंबाकू निषेध दिवस 31 मई 2021 का विषय “तम्बाकू छोड़ने के लिए प्रतिबद्ध” है।

जब यह पता चला कि धूम्रपान न करने वालों की तुलना में धूम्रपान करने वालों में COVID-19 के साथ गंभीर बीमारी विकसित होने की संभावना अधिक थी, तो इसने लाखों धूम्रपान करने वालों को तंबाकू छोड़ने के लिए प्रेरित किया। तम्बाकू छोड़ना चुनौतीपूर्ण हो सकता है, विशेष रूप से अतिरिक्त सामाजिक और आर्थिक तनाव के साथ जो महामारी के परिणामस्वरूप आया है।

वैश्विक स्तर पर 1.3 अरब तंबाकू उपयोगकर्ताओं में से, 60% ने छोड़ने की इच्छा व्यक्त की है – लेकिन केवल 30% के पास ऐसे उपकरण हैं जो उन्हें सफलतापूर्वक ऐसा करने में मदद कर सकते हैं। मध्य प्रदेश के ग्लोबल एडल्ट टोबैको सर्वे (GATS II) 2016 के आंकड़े कहते हैं कि:
• ४२.२% धूम्रपान करने वालों और ३६.४% धूम्रपान रहित तंबाकू उपयोगकर्ताओं ने तम्बाकू छोड़ने का प्रयास किया ।
• 28.9% धुंआ रहित तंबाकू और 43 प्रतिशत धूम्रपान करने वालों को स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा तम्बाकू छोड़ने की सलाह दी गई।
• ८६ प्रतिशत सिगरेट उपयोगकर्ता, ५३.६ प्रतिशत बीड़ी उपयोगकर्ता और ४९.६ धुंआ रहित तंबाकू उपयोगकर्ताओं ने तंबाकू उत्पादों पर चेतावनी लेबल के कारण इसे छोड़ने के बारे में सोचा।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस 2021 अभियान का उद्देश्य तंबाकू उपयोगकर्ताओं को उनके तम्बाकू छोड़ने के प्रयास को सशक्त बनाना और उनका समर्थन करना है।

मध्य प्रदेश वालंटरी हेल्थ एसोसिएशन के कार्यकारी निदेशक मुकेश कुमार सिन्हा का कहना है की राज्य में बड़ी संख्या में लोग तंबाकू छोड़ना चाहते हैं। ग्लोबल एडल्ट टोबैको सर्वे के आंकड़ों में यह भी कहा गया है कि तंबाकू छोड़ना चाहने वालों का प्रतिशत 2009 GATS-I से 2016 के GATS-2 में बढ़ गया , जो एक सकारात्मक बात है।- हमें इस अवसर का लाभ उठाना चाहिए और तम्बाकू व्यसन मुक्ति केन्द्रों को अधिक से अधिक बढ़ावा देना चाहिए। तम्बाकू व्यसन मुक्ति केन्द्रों को समर्पित कर्मचारियों के साथ राज्य के हर कोने में विस्तारित करने की आवश्यकता है ताकि जो लोग तम्बाकू छोड़ना चाहते हैं उन्हें आसानी से परामर्श और सलाह मिल सके। .

आम नागरिक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय,भारत सरकार द्वारा तंबाकू छोड़ने के लिए स्थापित राष्ट्रीय क्विटलाइन नंबर 1800-112-356 पर, काउंसलर से तम्बाकू छोड़ने के अलग-अलग तरीकों और उत्पादों के बारे में सलाह ले सकते हैं ,
धूम्रपान/तम्बाकू छोड़ने के बाद होने वाले लाभकारी स्वास्थ्य परिवर्तन:
• 20 मिनट के भीतर, आपकी हृदय गति और रक्तचाप कम हो जाता है।
• 12 घंटे में , आपके रक्त में कार्बन मोनोऑक्साइड का स्तर सामान्य हो जाता है।
• 2-12 सप्ताह में , परिसंचरण में सुधार होता है और आपके फेफड़ों की कार्यक्षमता बढ़ती है।
• 1-9 महीने में , खांसी और सांस की तकलीफ कम हो जाती है।
• 1 वर्ष में , कोरोनरी हृदय रोग का जोखिम धूम्रपान करने वालों की तुलना में लगभग आधा होता है।
• 10 वर्षों में, फेफड़े के कैंसर का जोखिम धूम्रपान करने वाले की तुलना में लगभग आधा हो जाता है और मुंह, गले, अन्नप्रणाली, मूत्राशय, गर्भाशय ग्रीवा और अग्न्याशय के कैंसर का खतरा कम हो जाता है।
• 15 साल में , कोरोनरी हृदय रोग का जोखिम धूम्रपान न करने वालों के बराबर होता जाता है।
आइए संकल्प लें कि हम स्वयं तम्बाकू से बने पदार्थों का सेवन नहीं करेंगे साथ ही अपने सम्पर्क के व्यक्तियों को भी प्रेरित करेंगे।

RB News india
Editor in chief - LS.TOMAR Mob- +919926261372 ,,,,,. CO-Editor - Mukesh bhadouriya Mob - +918109430445
http://rbnewsindiagroup.com